Posts

15 august

Image
Newummid.blogspot.con

moon png

Image

eid ul adha

Image

happy raksha bandhan

Image

Wooplr.com

Mi ने कीमत घटकर किया सबका मुंह बंद

Image
https://www.amazon.in/dp/B0785R3ZYN/ref=cm_sw_r_apa_i_HtCkBbH30GFZD



http://dl.flipkart.com/dl/mi-a1-red-64-gb/p/itmfyzz63yhgvb6y?pid=MOBFYZZ5YZDDXZ4T&cmpid=product.share.pp



शाओमी और रे़डमी लगातर सस्ते स्मार्टफोन्सको लॉन्च करके अपने ग्रहकों का पहले ही दिल जीत चुकी है , वही नई फोनओ के साथ वह अपने पुराने फोन मे भारी कटौती कर रही है। एक साल पहले लॉन्च हुवा, A1  अब स्सती दरों पर मिल रहा है जो अमेजंनLink:  https://www.amazon.in/dp/B0785R3ZYN/ref=cm_sw_r_apa_i_HtCkBbH30GFZDऔर फ्लिपकार्ट http://dl.flipkart.com/dl/mi-a1-red-64-gb/p/itmfyzz63yhgvb6y?pid=MOBFYZZ5YZDDXZ4T&cmpid=product.share.ppपर उपलब्ध है इस फोन की कुछ खास बाते।

कैमरा - इसमे अपको 12+12 मेगापिक्सेल के डुअल कैमरे के साथ 5  मेगापिक्सेल का सेल्फी कैमरा दिया गाया है फोन मे प्रोसेसिंग के लिए स्नैपड्रैगन 625 दिया है,वही 3 GB  और 4GB के रैम वेरिएंटउपलब्धहैस्टोरेज 64 GB है अन्यफीचर्स मेंफिंगरप्रिंट स्कैनर जैसे फीचर्स दिए गए है वही फेस अनलॉक जैसी सुविधा भी दी गई है, यह एंड्राइड नोगॉट पर कार्य करता है।

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय का इतिहयास

चाह नहीं मैं सुरबाला के,
गहनों में गूँथा जाऊँ,
चाह नहीं प्रेमी-माला में,
बिंध प्यारी को ललचाऊँ,
चाह नहीं, सम्राटों के शव,
पर, हे हरि, डाला जाऊँ
चाह नहीं, देवों के शिर पर,
चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ!
मुझे तोड़ लेना वनमाली!
उस पथ पर देना तुम फेंक,
मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पथ जाएँ वीर अनेक।
भारत में अंग्रेजों की हुकूमत थी और आज़ादी के हजारों हजार परवाने ऐसी ही कविताओं को गुनगुना कर कुर्बान हो जाते थे । यह और ऐसी सैकड़ों कविताएं पंडित माखन लाल चतुर्वेदी ने लिखी थी जिनके एक एक शब्द से स्वतंत्रता सेनानियों का संकल्प हिमालय सा मजबूत हो जाता था । दद्दा माखन लाल चतुर्वेदी सिर्फ कवि नहीं थे बल्कि ऐसे पत्रकार भी थे जिनकी कलम से विचारों की अग्नि भी प्रवाहित होती थी । ऐसे ही महान 'एक भारतीय आत्मा' पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की पुण्य स्मृति में बना है माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय । इसको एशिया का पहला पत्रकारिता विश्वविद्यालय होने का गौरव भी प्राप्त है । प्रख्यात पत्रकार एवं संपादक श्री जगदीश उपासने के नेतृत्व में देश में छह परिसरों, सैकड़ों संबद्ध संस्थानों , लाखों विद्यार्थ…